04 February 2019

भगोड़े विजय माल्या को भारत लाने की उम्मीद बढ़ी, प्रत्यर्पण को ब्रिटिश सरकार की मंजूरी

बैंकों से करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी कर भागे शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत लाने की उम्मीद बढ़ गई है. ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जावीद ने सोमवार को शराब कारोबारी विजय माल्या को करारा झटका देते हुए उसे भारत प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया. इस बीच अपील करने के लिए विजय माल्या को 14 दिन की मोहलत दी गई है. यूके होम सेक्रेटरी ने विजय माल्या के प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है.

बता दें कि ईडी ने 62 साल के विजय माल्या को भगोड़ा घोषित कर रखा है. वो पिछले कुछ वर्षों से ब्रिटेन में निर्वासित रह रहा है और फिलहाल जमानत पर बाहर है. लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने पिछले दिनों उसके प्रत्यर्पण के लिए मंजूरी दी थी.

भारत ने फैसले का किया स्वागत 

भारतीय विदेश मंत्रालय ने यूके सरकार के फैसले का स्वागत किया है. मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'हमें माल्या के भारत प्रत्यर्पण के आदेश पर यूके होम सेक्रटरी द्वारा हस्ताक्षर करने की जानकारी मिली है. हम यूके सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं. इसके साथ ही हम उनके प्रत्यर्पण के लिए कानूनी प्रक्रिया के जल्द पूरा होने का इंतजार कर रहे हैं.' 

विपक्ष लगातार मोदी सरकार को घेरता रहा है

आपको बता दें कि विपक्ष लगातार मोदी सरकार को आर्थिक अपराधियों के भारत से भागने को मुद्दा बनाकर घेरता रहा है. कुछ महीने पहले माल्या ने खुलासा किया था कि लंदन जाने से पहले वो केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली से मिला था और बताया था कि वो कहां जा रहा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तब जेटली और माल्या की इस कथित मुलाकात को मुद्दा बनाकर सरकार को घेरने का प्रयास किया था.

देश से भागे आर्थिक अपराधी विजय माल्या, पीएनबी घोटाले के आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चोक्सी को लेकर विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर हमलावर रहा है और आगामी लोकसभा चुनाव में भी इसे बड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी है. लेकिन लोकसभा चुनाव से ऐन पहले केंद्र को मिली इस कामयाबी से कम से कम माल्या के मोर्चे पर सरकार सफल होती नजर आ रही है.

कितने कर्जदार हैं माल्या

शराब कारोबारी विजय माल्या पर देश के बैंकों का लगभग 9400 करोड़ रुपए कर्ज है. उसके खिलाफ 17 बैंकों के कंसोर्शियम ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी. माल्या की तरफ से कहा गया है कि तेल (एटीएफ) के दाम बढ़ने, ज्यादा टैक्स और खराब इंजन के चलते उनकी किंगफिशर एयरलाइन्स को 6,107 करोड़ का घाटा उठाना पड़ा था. हालांकि वो अभी करीब 1800 करोड़ रुपए के विलफुल डिफॉल्टर हैं. बाकी बैंक अब भी माल्या के खिलाफ कोर्ट नहीं गए हैं.



More By Jangan